Motivational Event

Motivational Event November,2020

कंस्ट्रक्शन साइट और सम्बंधित इंडस्ट्री में सुरक्षा का बहुत महत्व है। तकरीबन सभी कंपनियों द्वारा सुरक्षा के विषय पर  कुछ  न  कुछ  कार्यक्रम या उत्सव मनाया जाता है। सुरक्षा सम्बंधित विषयों के बारे में वर्कर्स को जागरूक किया जाता है। इस तरह के कार्यक्रम को करवाने और सफल बनाने के लिए सुरक्षा विभाग की मुख्य भूमिका होती है। 
SAFE ACT TV भी कंस्ट्रक्शन व फैक्ट्री में कार्य करने वाले सभी इंजिनियर, सुपरवाइजर और वर्कर्स के लिए लेकर आया है “मोटिवेशनल कंपीटिशन प्रोग्राम”
सेफ एक्ट टीवी अगस्त 2020″ में सुरक्षा संबंधित ईनामी प्रतियोगिता का मंच प्रदान कर रहा है। जिसमें कहानी, लेख, सेफ्टी सम्बंधित फिल्म, ट्रेनिंग वीडियो आदि आदि के लिए भाग ले सकते हैं। आप भी सुरक्षा संबंधित ईनामी प्रतियोगिता में भाग लेना चहते हैं तो अपना रजिस्ट्रेशन करें। इसके लिए कोई फीस देय नही है। कृपा नियम व शर्तों को ध्यान से पढ़ें।

1. Safety related Film and training in Hindi language. (Attractive form).Video Format &Time limit 15 to 30 minutes.1st prize =  Rs. 100002nd prize =Rs. 5000 
2. Safety related inspirational and emotional Stories in Hindi language.    Written articles.1st prize = Rs. 50002nd prize = Rs. 2100 

Terms and Conditions: – नियम व शर्तें –


इस प्रतियोगिता में कोई भी भाग ले सकता है। इसके लिए कोई शिक्षा, आयुसीमा, क्षेत्र या अनुभव की जरूरत नहीं है।
आपका लेख या कहानी हिंदी में होना चाहिए। 
पॉइंट नo 1 कॉम्पिटिशन को वीडियो फॉरमेट में देना है। इसके लिए अपने मोबाइल से बनाया वीडियो भी स्वीकार्य है। वीडियो की आवाज साफ होनी चाहिए और पिक्टर साफ दिखाई दे। इसको आप लाइव ट्रेनिंग करते हुए भी बना सकते हैं। आपकी ट्रेनिंग या स्पीच के बोल सुनने वाले पर कोई गलत प्रभाव न डाले इसलिए जो भी करो सुरक्षा विभाग के नियमानुसार ही करें।
इस प्रतियोगिता का प्रारम्भ 01 अगस्त, 2020 से किया जा रहा है और 30 अगस्त 2020 तक  रजिस्ट्रेशन ओपन रहेगा। रजिस्ट्रेशन के लिए क्लिक करें ।
वीडियो और आर्टिकल जमा करने की अंतिम तिथि 30 November, 2020 है । इसके बाद आपकी कोई भी बनाई गई सामग्री नही ली जाएगी ।
15 अक्टूबर, 2020 तक आपके लेख को सेफ एक्ट टीवी की वेबसाइट www.safeacttv.org पर प्रकाशित कर दिया जायेगा। और परिणाम 10 नवंबर, 2020 के बाद घोषित किये जायेंगे ।
रजिस्ट्रेशन के लिए कोई फीस नही है। प्रतियोगिता में अपना नाम दर्ज करने के लिए रजिस्ट्रेशन करें।
इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए आपको अपनी खुद की लिखी हुई रचना को ही भेजें। इंटरनेट से कॉपी की हुई या किसी अन्य की कॉपीराइट मान्य नही होगी।
अपना लेख या कहानी 30 सितम्बर, 2020 तक भेजना होगा।
आप अपनी पसंद के किसी भी तथ्य या पहलू पर लिख सकते हैं, वीडियो और फिल्म बना सकते हैं  लेकिन ध्यान रहे लेख और कहानी या वीडियो और फिल्म सिर्फ सुरक्षा सम्बंधित जानकारी के बारे में हो।
15 अक्टूबर, 2020 से  लेखों, कहानियों, वीडियो और फिल्मों को  पाठकों और दर्शकों के समीक्षाधीन रखा जाएगा। 
इस प्रतियोगिता में निर्णायक की भूमिका पाठक वर्ग और सेफ एक्ट टीवी के संचालकों द्वारा अदा की जायेगी। श्रेष्ठ रचनाओं का निर्णय लाइक्स, व्यूज, कमैंट्स और स्टार रेटिंग्स के आधार पर किया जायेगा।
अगर कोई भी प्रतिभागी ऊपर दिए गए नियमो की पालन नहीं करता है, तो उसको बिना किसी सुचना के प्रतियोगिता से बाहर कर दिया जायेगा। 

विशेष सुचना: 
आपकी प्रकाशित की गई रचना किसी भी वेबसाइट या सोशल मीडिया पर प्रकाशित नहीं होनी चाहिए। अन्यथा क़ानूनी कार्यवाही की जा सकती है। आप अपनी रचना को किसी भी पब्लिकेशन द्वारा पब्लिश करवा सकते हैं अगर पब्लिकेशन को कोई एतराज नहीं है तो, इसके लिए आपको किसी तरह की रोकथाम नहीं है लेकिन ध्यान रहे आपकी रचना सेफ एक्ट टीवी पर कॉपीराइट के दायरे में है।

लेख या कहानी के किसी भी विवाद के लिए आप स्वम जिम्मेदार हैं।

पूछताछ व जानकारी

आप इस प्रतियोगिता के विषय में हमसे ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं।

 

PARTICIPATE NOW

Welcome Back!

Login to your account below

Create New Account!

Fill the forms below to register

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.

We worship God in the morning, praying, showing your respect to God. Likewise, one should give training at site first like worship. Then our whole day's work will be safe. -Sanjeev Malik . | | | | | | | | | | | | | | | | | | | | हम सुबह भगवान की पूजा करते हैं। प्रार्थना करते हुए भगवान के प्रति अपना सम्मान दिखाते हैं इसी तरह सर्वप्रथम पूजा की भांति किसी भी स्थल पर प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए। जिससे हमारे पूरे दिन का कार्य सुरक्षित होगा। -संजीव मलिक | | | | | | | | | | | | | | | | | | | | With conversation, observation and imagination we can control the safety department’s duties in a better direction.